जानिए आखिर घड़ी बनाने वाली बड़ी कंपनियां अपने प्रचार में घड़ी के समय 10.10 ही क्यों रखती है!


0

हम अक्सर देखते हैं कि घड़ी बनाने वाली बड़ी कंपनियां जैसे कि टाईमैक्स, रोलेक्स, ब्रेइटलिंग और टैग हेयर एक दूसरे से हमेशा कॉम्पटीशन में लगी रहती है ताकि उनके ब्रांड का नाम दुनिया के नंबर 1 घड़ी में शामिल हो। इसके लिए वो हमेशा कस्टमर को अलग अलग तरह के ऑफर से अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश करते रहते हैं। लेकिन इन सब के अलावा कभी आपने घड़ी खरीदने के समय किसी भी नई घड़ी में या फिर उसके किसी भी तरह के प्रचार में देखा है कि उनके समय 10 बज के 10 मिनट पर सेट हुई होती है? तो चलिए आज हम आपको बताते हैं आखिर क्यों घड़ी बनाने वाली कंपनियां अपने घड़ी के प्रचार में समय 10:10 ही क्यों रखती है।

देखने में किसी

आपको बता दें कि 10:10 में ही किसी भी घड़ी कि समरूपता को सुनिश्चित किया जाता है, इसलिए बड़ी कंपनियां घड़ी के प्रचार के प्रचार में समय को 10:10 में सेट कर के दिखाती है।

स्माइली रूप

अक्सर कस्टमर उन चीजों को खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं जिसको देख कर उन्हे खुशी महसूस होती है। इसके पहले 8.20 को स्माइल रूप मान कर बड़ी कंपनिया अपनी अपनी घड़ियों का प्रचार किया करती थी मगर बाद में उन्हें मालूम हुआ कि ये समय एक भ्रूभंग की तरह दिखता था जो लोगों को निराश करता है, जिसके बाद उन्होंने इस समय को बदल कर 10.10 को स्माइली रूप में मानना शुरू कर दिया।

स्पष्ट दृश्य

इस समय को सेट करने के बाद घड़ी की सुइयां एक दूसरे के उपर नहीं आती है जिससे घड़ी में दिन, तारीख, ब्रांड का नाम देखने में किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं आती।

जीत का प्रतीक

आपको बता दे की 10.10 समय जीत के प्रतीक के जैसा चिन्ह बनता है, जिससे ये लोगों की भावनाओं को उजागर करने में मदद करता है। इसे एक तरह का भावनात्मक मार्केटिंग के तरह ही माना जाता है।


Like it? Share with your friends!

0

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *